शुभदा | शरतचंद्र चट्टोपाध्याय | बांग्ला से अनूदित

23rd January 2021

 शुभदा एक ऐसी नारी की मार्मिक कथा है जो गरीबी की यातनाएं भोगते हुए अपने नशेड़ी पति के प्रति समर्पिता ही नहीं, बल्कि स्वाभिमानिनी भी है- शुभदा और उस की विधवा बेटी के माध्यम से शरतचंद्र ने नारी वेदना की गहन अभिव्यक्ति की है। संभवतया इसी कारण उन्हें 'नारी वेदना का पुरोहित' कहा जाता है।

और देखें

आर्काइव